हिमाचल प्रदेश : व्यास जल संग्रह क्षेत्र की परियोजनाएं

मलाना जल विद्युत् परियोजना : इसकी उत्पादन क्षमता 96 मेगावाट है | इसका जल निकास ढांचा 13 .03 क्यूसेक है | इसका उपलब्ध जल पाट 458 मीटर है | प्रतिवर्ष अनुमानित उत्पादन क्षमता 258 .74 मेगा यूनिट निकलती है | अल्लन जल – विद्युत् परियोजना : इसकी उत्पादन क्षमता 25 मेगावाट है | इसका जल… Continue reading हिमाचल प्रदेश : व्यास जल संग्रह क्षेत्र की परियोजनाएं

हिमाचल का प्राकृतिक भू-भाग-3

उच्च हिमालय या जस्कर क्षेत्र | 5000 मीटर से 6000 मीटर की ऊंचाई वाली उच्च हिमालय पर्वत श्रेणी पूर्वी सीमा के साथ- साथ विस्तृत है और सतलुज नदी इसे विभाजित करती है | यह पर्वत श्रेणी स्पीति नदी के जल निकास को व्यास नदी के रास्ते से अलग करती है | 5248 मीटर की ऊंचाई… Continue reading हिमाचल का प्राकृतिक भू-भाग-3

हिमाचल का प्राकृतिक भू-भाग-2

निम्नवर्ती हिमालय या मध्य क्षेत्र निम्नवर्ती हिमालय या मध्य क्षेत्र  में धौलाधार श्रेणी से पीरपंजाल श्रेणी की तरफ बढ़ने पर ऊंचाई क्रमशः बढती चली जाती है | शिमला की पहाड़ियों में यह ऊंचाई एकाएक बढ़ जाती है और इसी के दक्षिण में चूढ़- चांदनी की ऊँची पर्वत चोटी है जिसकी ऊंचाई 3647 मीटर है |… Continue reading हिमाचल का प्राकृतिक भू-भाग-2

हिमाचल का प्राकृतिक भू-भाग-1

बाह्रा हिमाचल और शिवालिक श्रेणी बाह्रा हिमाचल या शिवालिक श्रेणी में निम्न पहाड़ियां आती है ये पहाड़ियां समुद्रतल से 600 मीटर ऊँची है | इन् पहाड़ियों की चट्टानें बहुत ही कमजोर है जो बहुत आसानी से कटाव का शिकार हो जाती है| कटावों के परिणामस्वरूप जंगल नष्ट हुए है और मिटटी के कटाव की दर… Continue reading हिमाचल का प्राकृतिक भू-भाग-1