हिमाचल प्रदेश का इतिहास, राज्यों का विघटन

हिमाचल प्रदेश के इतिहास का यह सबसे बड़ा दुखद सत्य है की कोई भी एक बड़ा राज्य लम्बे समय तक क्षेत्र में स्थापित नहीं हो सका| जो बड़े राज्य बने थे उनका भी समय के साथ विघटन हो गया | इसका कारण आपस में युद्ध, एकता की कमी, और दूरदर्शिता का आभाव था|
काँगड़ा राज्य कटोच राजकुमारों ने जसवां, गुलेर, डाडासीबा और दातारपुर नामक छोटे राज्यों में बाँट दिया |

जसवां रियासत 1170 ई. में राजकुमार पूर्णचंद ने स्थापित की| गुलेर राज्य की स्थापना काँगड़ा के ही एक राजा हरिचंद ने 1450 ई. में की थी | ऐसा माना जाता है की एक दिन राजा हरिचंद शिकार खेलते खेलते कुवे में गिर गए | उन्हें मृत मान कर उनकी रानिया सती हो गयी | 22 दिनों के बाद एक व्यपारी ने हरिचंद की आवाज़ सुनी और कुए से बहार निकाला | तब तक काँगड़ा की गद्दी पर उनका भाई करमचंद बैठ गया था | राजा हरिचंद ने ऐसी स्थिति में काँगड़ा जाना उचित नहीं समझा| उन्होंने हरिपुर को राजधानी बना कर गुलेर रियासत की नीव रखी |

इसी गुलेर राज्य के रूप में 1405 ई. में डाडासीबा की नीब सीवनचंद ने रखी | 1550 ई. के लगभग दातारपुर राज्य की स्थापना की गयी | ऐसे ही मंडी और सुकेत, खनेटी कोटखाई, कुमारसेन का विघटन हुआ |
कहलूर के राजा काहनचंद के बड़े पुत्र अजयचन्द ने 1100 ई. के लगभग हन्दुर(नालागढ़) रियासत की नीव रखी |
हिमाचल की कुछ रियासतों का विघटन मध्य काल में ही आरम्भ हो गया था | दिल्ली सुल्तानों के समय में पहाड़ी क्षेत्रो पर उनके आक्रमण होते रहे , ये आक्रमण थोड़े समय के लिए होते थे | लूट पाट मचा कर उनकी सेना वापिस भाग जाती थी |
सन 1540 ई. में शेरशाह सूरी ने अपने सेनापति ख्वास खां को नगरकोट और अन्य पहाड़ी राज्यों पर अधिकार करने के लिए भेजा | उसने कांडा पर विजय पर विजय पाकर उसे हामिद खां के अधीन कर दिया |
शेरशाह सूरी के बाद उनके भतीजे सिकंदरशाह सूरी को मुगलो ने पराजित किया | मुगलो का पहाड़ी राज्यों पर अधिपत्य औरंगजेब के राज्य काल तक बना रहा |

मुगलो का मुख्य उदेश्य पहाड़ी राजाओ से सैनिक सहायता और कर प्राप्त करना था | उनके आंतरिक शासन में वे दखल नहीं देते थे |
सीखों के दसवे गुरु गोविन्द सिंह ने इन राजाओ को मुगलों के विरुद्ध एकत्रित करने का प्रयास किया| उनमे परस्पर विरोध होते हुए भी गुरु गोविन्द सिंह ने पहाड़ी राजाओं की सहायता से नादौन के समीप, मुग़ल सेना को परास्त किया |
1707 ई. में औरंगजेब की मृत्यु के बाद मुग़ल साम्राज्य का पतन आरम्भ हो गया | सभी पहाड़ी शासक धीरे धीरे स्वतंत्र हो गए | परन्तु प्रायः सभी पहाड़ी शासक आपस में लड़ते रहे |

नूरपुर के राजा जगत सिंह ने चम्बा के राजा जनार्दन की हत्या कर दी | कहलूर, रामपुर- बुशहर और सिरमौर ने अन्य सभी छोटी रियासतों का अपना अलग राज्य बना लिया | काफी समय तक बाथल, बाघट, क्यूटल, बेजा, भज्जी, महलोग, घामी, कुठाड़, कोटखाई, कोटगढ़, कुनिहार, बलसन आदि कादर रियासतें रही |
19वीं शताब्दी के आरम्भ में गोरखों ने अपने सुयोग्य और महत्वकांक्षी सेनापति अमरसिंह थापा के नेतृत्व में काँगड़ा पर आक्रमण कर दिया |
1805 ई. में हमीरपुर के समीप महालमोरिया के स्थान पर गोरखा सेना और राजा संसारचंद की सेना के बीच भयंकर युद्ध हुआ | इसमें राजा संसारचंद की पराजय हुई | अंत में राजा विवश हो कर वह काँगड़ा के दुर्ग में चला गया | गोरखों ने लम्बे समय तक काँगड़ा के दुर्ग पर घेरा ड़ाल कर रखा |

अंत में राजा संसारचंद ने विवश होकर महाराजा रणजीत सिंह से सहायता मांगी| इस पर रणजीत सिंह ने संसार चंद के सामने एक शर्त रखी की वो इसके बदले नागतकोट और 66 गांव देगा |
१९०९ में महाराजा रणजीत सिंह ने गोरखों को पराजित कर काँगड़ा पर अधिकार कर लिया | उन्होंने अपना राज्य सतलुज और सिंधु नदी के बीच स्थापित किया|

महाराजा रणजीत सिंह की मृत्यु के बाद अंग्रेजो ने अपना प्रभाव इस क्षेत्र पर बढ़ाया | 1847 में लाहौल स्पीति को सिखों से जीतकर उसे काँगड़ा का भाग बनाया| अपनी कूटनीति और दूरदर्शी नीति से हिमाचल के बहुत बड़े भाग में उन्होंने अपना प्रभाव बढ़ाया |
अनेक पहाड़ी राजाओं को जेल में डालकर या पैंशन देकर उनका क्षेत्र अपने साम्राज्य में मिला लिया | अंग्रेजों ने कोटखाई -कोटगढ़ को भी ब्रिटिश भारत का भाग बना लिया |

काँगड़ा की सभी छोटी रियासतों में भी ऐसा ही किया गया | शेष रियासतों के निरिक्षण और देखभाल के लिए शिमला और लाहौर में अपने राजनीतिक प्रतिनिधि नियुक्त किये |
1848 में सभी असंतुष्ट पहाड़ी राजाओं ने अपने खोये हुए राज्य वापिस लेने के उदेश्य से सिखों के साथ मिलकर अंग्रेजों की सत्ता को समाप्त करने का पूरा प्रयास किया | नूरपुर से रोपड़ तक सारा क्षेत्र अंग्रेजों के विरुद्ध भड़क उठा परन्तु उन्हें सफलता नहीं मिली |

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *